हंसगुल्ले

हंसगुल्ले

इंडिया में टॉप एक बच्चा करता हैं 

और 

उसके बदले में गालिया एक करोड़ बच्चों को खानी पड़ती हैं।

एक बार यमराज की पत्नी ने देखा कि यमराज नींद में बडबडा रहे हैं और पसीने में डूबे हैं।
उनकी पत्नी ने मौत के ही माथे पर पसीना देखा था तो- यमराज को जगाया और पूछा कि क्या हुआ स्वामी- आप घबराये हुए क्यों हैं
यमराज बोले, मैंने सपना देखा की केजरीवाल मर गया है और उसको यमदूत ऊपर लेकर आ रहे हैं और वह नारे लगाता हुआ आ रहा है कि-
*दिल्ली तो हमारी है अब यमलोक की बारी है* 

गुरुदेव,
मुझे बताईए मैं कैसे अपने अंदर झाँकूँ ? 
कैसे अपनी कमियाँ ढूँढूँ ? 

गुरुदेव : वत्स बहुत आसान है , शादी कर लो।
तुम्हारी पत्नी न केवल तुम्हारी, 

बल्कि तुम्हारे पूरे ख़ानदान की कमियाँ इतनी बार गिनवाएगी कि तुम्हें याद हो जाएँगी । 

हिन्दी_व्याकरण

हिन्दी_व्याकरण :
कर्ता ने, कर्म को, करण से / के द्वारा, सम्प्रदान को / के लिए, आपादान से, सम्बन्ध का / की / के, अधिकरण में / पर, संबोधन हे / अरे
उदाहरण :-
सत्येंद्र जैन ने, केजरीवाल को, नकद नोटों के द्वारा, जमीन सौदे के लिये, झोले से, दो करोड़ की रिश्वत, घर पर, दी।

जिसे कपिल मिश्रा ने देखा और कहा अरे, ये तो भ्रष्टाचार है

50 साड़ी खरीदूंगी

Wife ने एक बोर्ड देखा:

बनारसी साड़ी 10/-

नायलॉन 8/-

कॉटन 5/-

Wife खुश हो के अपने हस्बैंड से :: मुझे 500 रू. दो, मैं 50 साड़ी खरीदूंगी

.

.

Husband: अरी ओ बीरबल की माँ, press करने वाले  की दुकान है वो। 

हरियाणवी आदमी जवाब उल्टे नही देता

हरियाणवी आदमी जवाब उल्टे नही देता… लोग सवाल उल्टे करते हैं। नहीं यकीन आता, तो पढ़िए मस्त जोक…

———–

जज: तू तीसरी बार अदालत आया है, तने शर्म कोनी आती?

आदमी: तू तो रोज़ आवे है, तने तो डूब के मर जाना चाहिए ।

———–

ग्राहक: थारी भैंस की एक आंख तो खराब सै, फेर भी तू इसके 25 हज़ार रुपये मांगन लाग्र्या सै?

आदमी: तन्नै भैंस दूध खात्तर चाहिए या नैन-मटक्का करन खात्तर..?????

———–

हज़्ज़ाम: ताऊ, बाल छोटे करने है के…?

ताऊ: बड़े कर सके है के !!

———–

ताऊ मास्टर से – “मेरा छोरा पढाई मै कैसा सै ?”

मास्टर -“चौधरी यू समझ ले,……आर्यभट्ट ने जीरो की खोज इसके खातिर ही करी थी ।”

———–

टीचर: तुम्हें पता है हमारे पूर्वज बन्दर थे।

जाट: थारे होंगे, महारे तो चौधरी थे।?

————————–

जाट…… दिल्ली चला गया

रेलवे स्टेशन पै अखबार वाले से bola एक अखबार देना…

अखबार वाला-हिन्दी या अंग्रेजी ka

जाट ….. भाई कोईसा दे दे मने तो रोटी लपेटनी है|

 

इस्त्री देदे

एक दिन पड़ोस का हरयाणवी छोरा आ के बोल्या-

“रे चाचा, अपनी इस्त्री देदे… ”

चाचा ने अपनी जनानी की ओर इसारा करया और बोला- “ले जा, वा बैठी.. ”

छोरा चुप चाप देखन लाग्या…
बोला- “चाचा यो नहीं, कपडे वाली..”

चाचा बोल्या- “भले मानस, यो तन्ने बगेर कपड़े दिखे है के ??? ”

छोरा गुस्से में चीखा- “रा चाचा बावला ना बन, करंट वाली इस्त्री..”

चाचा- “बावले, हाथ ते लगा के देख… जे ना मारे करंट, फेर कहिये…”